वह हृदय नहीं है पत्थर है, जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं। - मैथिलीशरण गुप्त।

Find Us On:

English Hindi
Loading

शिवरानी देवी प्रेमचंद

शिवरानी देवी प्रेमचंद कथा-सम्राठ मुंशी प्रेमचंद की जीवन-संगिनी थीं।

शिवरानी देवी के पिता का नाम मुंशी देवीप्रसाद था। शिवरानी बाल-विधवा थीं व 1905 में शिवरानी का विवाह मुंशी प्रेमचंद से हुआ।

शिवरानी ने स्वाधीनता अांदोलन में सक्रिय भाग लिया। आप स्वाधीनता के लिए लड़ीं व 1930 में आपको २ महीने का कारावास हुआ।

प्रेमचंद घर में आपकी चर्चित साहित्य-कृति है। आपकी रचनाएं चाँद व हंस में प्रकाशित होती रही हैं।

Author's Collection

Total Number Of Record :1
कप्तान

ज़ोरावर सिंह की जिस दिन शादी हुई, बहू आई, उसी रोज़ ज़ोरावर सिंह की कप्तानी को जगह मिली। घर में आकर बोला ज़ोरावर अपनी बीवी से -- 'तुम बड़ी भाग्यवान हो। कल तुम आई नहीं, आज मैं कप्तान बन बैठा ।'

उसकी बीवी का नाम सुभद्रा; सुभद्रा यह सब सुन करके ख़ुश होने के बजाय चिन्तित हो गई।
...

More...
Total Number Of Record :1

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश