हिंदी ही भारत की राष्ट्रभाषा हो सकती है। - वी. कृष्णस्वामी अय्यर

Find Us On:

English Hindi
Loading

प्रभुद‌याल‌ श्रीवास्त‌व‌

Prabhudyal Srivastva

आपका जन्म 4 अगस्त 1944, धरमपुरा दमोह, मध्य प्रदेश में हुआ। आप कहानी, कविता, बाल-साहित्य, व्यंग्य इत्यादि विधाओं में साहित्य-सृजन करते हैं। आपको 'भारती रत्न', 'भारती भूषण सम्मान', 'श्रीमती सरस्वती सिंह स्मृति सम्मान', 'लाइफ एचीवमेंट एवार्ड', 'हिंदी सेवी सम्मान', 'व्यंग्य वैभव सम्मान' मिले हैं।

साहित्य कृतियें:

व्यंग्य संग्रह : दूसरी लाइन
बाल गीत संग्रह : बचपन गीत सुनाता चल, बचपन छलके छल छल छल
गीत सुनाता चल (बाल गीत संग्रह)
बचपन छलके छल छल छल (बाल गीत संग्रह)

Author's Collection

Total Number Of Record :2
छन्नूजी

दाल भात रोटी मिलती तो,
छन्नू नाक चढ़ाते।
पूड़ी परांठे रोज रोज ही,
मम्मी से बनवाते।

हुआ दर्द जब पेट,रात को,
तड़फ तड़फ चिल्लाये।
बड़े डॉक्टर ने इंजेक्शन ,
आकर चार लगाये।

छन्नूजी अब दाल भात या,
रोटी ही खाते हैं।
...

More...
मछली की समझाइश‌

मेंढक बोला चलो सड़क पर.
जोरों से टर्रायें|
बादल सोया ओढ़ तानकर.
उसको शीघ्र जगायें

मछली बोली पहले तो हम.
लोगों को समझायें|
"पेड़ काटना बंद करें वे.
पर्यावरण बचायें|

- प्रभुदयाल श्रीवास्तव

 


...
More...

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश