हिंदी का पौधा दक्षिणवालों ने त्याग से सींचा है। - शंकरराव कप्पीकेरी

Find Us On:

English Hindi
Loading

राजेश्वर वशिष्ठ

राजेश्वर वशिष्ठ का जन्म 30 मार्च, 1958 को भिवानी (हरियाणा) में हुआ।

सम्प्रति : सार्वजनिक क्षेत्र के एक बैंक में मुख्य प्रबन्धक

कृतियाँ :मुट्ठी भर लड़ाई (उपन्यास),
कविता देशांतर कनाड़ा ( कविताओं का अनुवाद )
सुनो वाल्मीकि (कविता संकलन)
ब्रह्मांड में स्त्री (कविता संकलन) शीघ्र प्रकाश्य

विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में कविताएं, कहानियां, लेख इत्यादि प्रकाशित

ई-मेल : [email protected]

फोन : 09674386400

 

Author's Collection

Total Number Of Record :3
कुंती की याचना

मित्रता का बोझ
किसी पहाड़-सा टिका था कर्ण के कंधों पर
पर उसने स्वीकार कर लिया था उसे
किसी भारी कवच की तरह
हाँ, कवच ही तो, जिसने उसे बचाया था
हस्तिनापुर की जनता की नज़रों के वार से
जिसने शांत कर दिया था
...

More...
जानकी के लिए

मर चुका है रावण का शरीर
स्तब्ध है सारी लंका
सुनसान है किले का परकोटा
कहीं कोई उत्साह नहीं
किसी घर में नहीं जल रहा है दिया
विभीषण के घर को छोड़ कर।

सागर के किनारे बैठे हैं विजयी राम
...

More...
उर्मिला

टिमटिमाते दियों से
जगमगा रही है अयोध्या
सरयू में हो रहा है दीप-दान
संगीत और नृत्य के सम्मोहन में हैं
सारे नगरवासी
हर तरफ जयघोष है ----
अयोध्या में लौट आए हैं राम!
अंधेरे में डूबा है उर्मिला का कक्ष
...

More...

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश