हमारी नागरी दुनिया की सबसे अधिक वैज्ञानिक लिपि है। - राहुल सांकृत्यायन।

Find Us On:

English Hindi
Loading

यशपाल जैन | Yashpal Jain

यशपाल जैन का जन्म 1 सितम्बर 1912 को विजयगढ़ ज़िला अलीगढ़ में हुआ था।  

सस्ता साहित्य मंडल के प्रकाशन के पीछे मुख्यत: आप ही का परिश्रम था।

आपने
सस्ता साहित्य मंडल प्रकाशन के मंत्री के रूप में हिंदी की सेवा की ।
 
आपने अनेक उपन्यास, कहानी संग्रह, एक आत्मकथा, 3 प्रकाशित
नाटक, कविता संग्रह, यात्रा वृत्तांत, संग्रहों का प्रकाशन व संपादन किया।


1990 में आपको पद्मश्री से सम्मानित किया गया था। 


10 अक्टूबर 2000 को नागदा (म. प्र) में आपका निधन हो गया।

Author's Collection

Total Number Of Record :1
राजकुमार की प्रतिज्ञा | Rajkumar Ki Pritigya

यशपाल ने अनेक बालोपयोगी कहानियां लिखी, पर उपन्यास नहीं लिखा था। अचानक उन्हें आभास हुआ कि बच्चों के लिए उपन्यास भी लिखना चाहिए और उनकी लेखनी उस दिशा में चल पड़ी। लगभग सवा महीने में यह रचना पूरी हो गई।

...

More...

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश