राष्ट्रभाषा के बिना आजादी बेकार है। - अवनींद्रकुमार विद्यालंकार

Find Us On:

English Hindi

डॉ सुनीता शर्मा | न्यूज़ीलैंड

डॉ सुनीता शर्मा ऑकलैंड (न्यूज़ीलैंड) निवासी हैं। आप भारत से एम.ए.(हिंदी) व पीएच. डी हैं।

आपकी साहित्य सृजन, संगीत, नृत्य व तैराकी में रुचि है।

साहित्य कृतियाँ: मैं गांधारी नहीं (कविता संग्रह), जागृति(कहानी संग्रह)। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में कहानियां तथा कविताएं प्रकाशित।

 

Author's Collection

Total Number Of Record :4
शस्य श्यामलां

एक पत्थर फेंका गया मेरे घर में
फ़ेंकना चाहती थी
मैं भी उसे किसी शीश महल में
पर आ किसी ने हाथ रोक लिए
मंदिर में सजा दिया उसे
अब हो व्याकुल
कहीं नमी देखते ही
बो देना चाहती हूँ
आस्था विश्वास के बीज
लहलहा उठे फसलें
...

More...
जवाब

दोहराता रहेगा इतिहास
भी युगों-युगों तक यह
दुर्योधन - दुशासन की
कुटिल राजनीति की
बिसात पर खेली गयी
द्रौपदी चीर-हरण जैसी
प्रवासी मजदूरों की
अनोखी कहानी,
जब पूरी सभा रही मौन
और मानवता - सिसकती
व कराहती हुई
...

More...
मेरा दिल मोम सा | कविता

खिड़की दरवाजे लोहे के बना
बोल्ट कर लिए हैं मैंने
कोई कण धूल-सा आंखों में
ना चुभ जाए कहींl
मेरा दिल मोम सा
पिघल न जाए कहींl
बिस्तर पर भी चप्पल
उतारने से कतराती हूँ मैं
कोई फूल कांटा बनकर
ना चुभ जाए कहींl
...

More...
सुनीता शर्मा के हाइकु

एक पत्थर फेंका गया मेरे घर में
फ़ेंकना चाहती थी
मैं भी उसे किसी शीश महल में
पर आ किसी ने हाथ रोक लिए
मंदिर में सजा दिया उसे
अब हो व्याकुल
कहीं नमी देखते ही
बो देना चाहती हूँ
आस्था विश्वास के बीज
लहलहा उठे फसलें
...

More...
Total Number Of Record :4

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश