कविता मानवता की उच्चतम अनुभूति की अभिव्यक्ति है। - हजारी प्रसाद द्विवेदी।

Find Us On:

English Hindi

Author's Collection

[First] [Prev] 1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9

Total Number Of Record :90
फेसबुक बनाम फेकबुक

'फेसबुक' में
'बुक' तो ठीक है, पर...
'फेस'- 'फेक' है,
क्योंकि-- 
होता कुछ है, बताते कुछ हैं
करते कुछ हैं, दिखाते कुछ हैं।

यहाँ, हर कोई
खुशहाल दीखता है।

वास्तव में,
ऐसा होता नहीं है--
जिसकी अम्मा और बीवी
हररोज लड़ती हैं,
...

More...
हम भी काट रहे बनवास

हम भी काट रहे बनवास
जावेंगे अयोध्या नहीं आस

पडूं रावण पर कैसे मैं भारी
नहीं लक्ष्मण भी है मेरे पास

यहाँ रावण-विभीषण हैं साथ
करूं लँका का कैसे मैं नास

कौन फूँकेगा सोने की लँका
यहाँ है कहाँ हनुमन-सा दास

...

More...
बाबा | हास्य कविता

दूर बस्ती से बाहर
बैठा था एक फ़क़ीर
पेट से भूखा था
तन कांटे सा सूखा था।

बस्ती में फ़क़ीर की ऐसी हवा है
कहते हैं -
बाबा के पास हर मर्ज़ की दवा है।

आस-पास मिलने वालों की भीड थी
कोई लाया फूल, किसी के डिब्बे मे खीर थी।

फ़क़ीर से माँग रहे थे वे सब
...

More...
उसे कुछ मिला, नहीं !

कूड़े के ढेर से

कुछ चुनते हुए बच्चे को देख

एक चित्रकार ने

करूणामय चित्र बना डाला।


कवि ने

एक मार्मिक रचना

रच डाली ।


एक कहानीकार ने

'उसी बच्चे' पर

...

More...
भिखारी| हास्य कविता

एक भिखारी दुखियारा
भूखा, प्यासा
भीख मांगता
फिरता मारा-मारा!

'अबे काम क्यों नहीं करता?'
'हट......हट!!'
कोई चिल्लाता,
कोई मन भर की सीख दे जाता।
पर.....पर....
भिखारी भीख कहीं ना पाता!

भिखारी मंदिर के बाहर गया
...

More...
संवाद | कविता

"अब तो भाजपा की सरकार आ गई ।"
मैंने उस गुमसुम रिक्शा वाले से संवाद स्थापित किया ।

भाजपा आए या कांग्रेस जाए..
हमें क्या फर्क पड़ता है?
दो जून की कमाने के लिए
हमें तो तिल-तिल मरना पड़ता है ।

...

More...
रोहित कुमार 'हैप्पी' के आलेख

रोहित कुमार 'हैप्पी' के आलेख

...
More...
रोहित कुमार हैप्पी के भजन

रोहित कुमार हैप्पी का भजन संग्रह।

...
More...
दो क्षणिकाएं

तुम्हारी कलम में
वो 'पीर' नहीं। 
तुमने शब्द गढ़े,
जीये नहीं।
तुम कवि तो हुए
कबीर नहीं! 

- रोहित कुमार 'हैप्पी'

...
More...
आज़ादी

भोग रहे हम आज आज़ादी, किसने हमें दिलाई थी!
                   चूमे थे फाँसी के फंदे, किसने गोली खाई थी?

बलिवेदी को शीश दिया था, मौत से करी सगाई थी,
                   क्या ‘ऐसी आज़ादी' खातिर हमने जान गंवाई थी?

मांग रहा था  देश खून जब, किसने प्यास बुझाई थी?
...

More...
[First] [Prev] 1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9

Total Number Of Record :90

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश