शिक्षा के प्रसार के लिए नागरी लिपि का सर्वत्र प्रचार आवश्यक है। - शिवप्रसाद सितारेहिंद।

Find Us On:

English Hindi

Author's Collection

[First] [Prev] 1 | 2 | 3

Total Number Of Record :23
फूल नहीं तोड़ेंगे हम

14 नवम्बर, बाल-दिवस, बच्चों के प्यारे चाचा नेहरू जी का जन्म-दिवस, देवम के स्कूल में बड़ी धूमधाम के साथ मनाया जाता है। सभी छात्र बड़े उत्साह और उमंग के साथ इस दिवस को मनाते हैं।

स्कूल में इस दिन बच्चों के लिए भिन्न-भिन्न प्रकार की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है। शिक्षक-गण एवं विद्यार्थियों द्वारा नेहरू जी के जीवन, दर्शन और अन्य प्रेरक-प्रसंगों की चर्चा की जाती है। विद्यार्थी चाचा नेहरू के विषय में अपने-अपने अनुभव और विचार बाल-सभा में रखते हैं।

...

More...
मेरे पापा सबसे अच्छे

मेरे पापा सबसे अच्छे,
मेरे संग बन जाते बच्चे।
झटपट वे घोड़ा बन जाते,
और पीठ पर मुझे बिठाते।

पैर हिलाते हिन-हिन करते,
धमा चौकड़ी भरते फिरते।
और गुलाटी फिर वो भरते,
टप-टप, टप-टप बोला करते।

थककर कहते भूखा घोड़ा,
...

More...
नभ में उड़ने की है मन में

नभ में उड़ने की है मन में,
उड़कर पहुँचूँ नील गगन में।
काश, हमारे दो पर होते,
हम बादल से ऊपर होते।
तारों के संग यारी होती,
चन्दा के संग सोते होते।

बिन पर सबकुछ मन ही मन में,
...

More...
[First] [Prev] 1 | 2 | 3

Total Number Of Record :23

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश