हास्य काव्य
हिंदी का काम देश का काम है, समूचे राष्ट्र निर्माण का प्रश्न है। - बाबूराम सक्सेना

Find Us On:

English Hindi
Loading
हास्य काव्य
भारतीय काव्य में रसों की संख्या नौ ही मानी गई है जिनमें से हास्य रस (Hasya Ras) प्रमुख रस है जैसे जिह्वा के आस्वाद के छह रस प्रसिद्ध हैं उसी प्रकार हृदय के आस्वाद के नौ रस प्रसिद्ध हैं - श्रृंगार रस (रति भाव), हास्य रस (हास), करुण रस (शोक), रौद्र रस (क्रोध), वीर रस (उत्साह), भयानक रस (भय), वीभत्स रस (घृणा, जुगुप्सा), अद्भुत रस (आश्चर्य), शांत रस (निर्वेद)।

Articles Under this Category

फैशन | हास्य कविता - कवि चोंच

कोट, बूट, पतलून बिना सब शान हमारी जाती है,
हमने खाना सीखा बिस्कुट, रोटी नहीं सुहाती है ।
बिना घड़ी के जेब हमारी शोभा तनिक न पाती है,
नाक कटी है नकटाई से फिर भी लाज न आती है ।

...

नैराश्य गीत | हास्य कविता - कवि चोंच

कार लेकर क्या करूँगा?
तंग उनकी है गली वह, साइकिल भी जा न पाती ।
फिर भला मै कार को बेकार लेकर क्या करूँगा?

...

नेता जी की शिकायत - प्रवीण शुक्ला

एक कवि-सम्मेलन में
'नेता जी' मुख्य अतिथि के रूप में आये हुए थे,
परन्तु गुस्से के कारण
अपना मुँह फुलाये हुए थे ।
उपस्थित अधिकांश कवि
नेताओं के विरोध में कविता सुना रहे थे,
इसलिए, नेता जी को
बिल्कुल भी नहीं भा रहे थे ।
जब उनके भाषण का नम्बर आया
तो उन्होंने यूँ फ़रमाया-

इस देश में
बिहारी और भूषण की परम्परा का कवि
न जाने कहाँ खो गया है,
अब तो सत्ता की आलोचना करना ही
कवियों का काम हो गया है ।

मैंने कहा-
श्रद्धेय, श्रीमान जी,
हम आज भी करते हैं
आपका पूरा-पूरा सम्मान जी,
लेकिन राजनीति में
अपराधियों की बढ़ती हुई संख्या
एक ही कहानी कह रही है,
ईमानदारों की संख्या तो आजकल
मुश्किल से दो प्रतिशत ही रह रही है ।
जब आप इस प्रतिशत को
उल्टा करके दिखायेंगे,
तो हम भी एक बार फिर से
भूषण और बिहारी की
परम्परा को निभाएंगे ।

आपके सम्मान में गीत गाएंगे,
गीतों में आपका अभिनन्दन करेंगे
आपके चरणों मैं सुबह-शाम वन्दन करेंगे ।

- प्रवीण शुक्ला
साभार - हँसते हँसाते रहो

...

पिंकी - बाबू लाल सैनी

एक विरोधी पक्ष के नेता गाँव में पधारे,
...

कृष्ण उवाच - बाबू लाल सैनी

कौरवों की सभा में श्री कृष्ण ने, दुर्योधन को यों हड़काया-
...

यमराज का इस्तीफा - अमित कुमार सिंह

एक दिन
यमदेव ने दे दिया
अपना इस्तीफा।
मच गया हाहाकार
बिगड़ गया सब
संतुलन,
करने के लिए
स्थिति का आकलन,
इन्द्र देव ने देवताओं
की आपात सभा
बुलाई
और फिर यमराज
को कॉल लगाई।

...

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश