हिंदी को तुरंत शिक्षा का माध्यम बनाइये। - बेरिस कल्यएव
रोचक
इस श्रेणी में आप रोचक सामग्री पाएंगे जिसमें सम्मिलित है पठनीय सामग्री, रोचक विडियो व ऑडियो इत्यादि।

Articles Under this Category

अद्भुत दोहा - भारत-दर्शन संकलन

इस दोहे में एक ही अक्षर ‘न’ का प्रयोग किया गया है।
...

अद्भुत अकल्पनीय अविश्वसनीय - प्रो. राजेश कुमार

यह 2013 का साल था और मैं गुजरात में निदेशक के पद पर गया था। अपने जिस पूर्ववर्ती से मुझे कार्यभार लेना था, उसने अन्य बातों के अलावा मेरे साथ मामाजी नामक शख्सियत का जिक्र किया और बताया कि उन्होंने मुझे बता दिया था कि मेरा स्थानांतरण 16 फ़रवरी को हो जाएगा। वे बहुत दिनों से अपने स्थानांतरण की कोशिश में थे, जो हो नहीं रहा था। उन्होंने आगे यह भी बताया कि मामाजी वैसे तो नेत्रहीन है, लेकिन उन्हें दिव्य दृष्टि प्राप्त है और वे भविष्य को देख लेते हैं। उनका स्थानांतरण 16 फ़रवरी को ही हुआ था।
...

सिंगापुर में भारत - डॉ संध्या सिंह | सिंगापुर

भारतीय नाम वाले महत्वपूर्ण रास्तों की कहानी

रास्ते जीवन के वे पहलू हैं जिनसे हमारा वास्ता पड़ता ही है। कभी हम सही रास्ते पर होते हैं तो कभी हम रास्ते को सही करने की कोशिश करते हैं। यह एक शब्द बड़े-बड़े अर्थ समेटे रहता है। बहुत गहराई में न जाते हुए अगर इसके शाब्दिक रूप को भी लिया जाए तो हर देश में, हर शहर में, हर गाँव में अलग-अलग रास्ते होते हैं जिनका एक नाम होता है। जी हाँ कोई भी सड़क या रास्ता बेनाम नहीं होता है। याद कीजिए भारत में रिक्शेवाले को तय करते समय पहला वाक्य होता है “फलां जगह चलोगे?” और अगर वह रास्ता नहीं जानता तो हम तुरंत बताने लगते हैं “पहले फलां रास्ते से चलो, फिर फलां रास्ते से मुड़ जाना......” और आज ‘गूगल बाबा’ भी तो यही कर रहे हैं तो यह तो तय हो गया कि रास्ता और उसके नाम की बड़ी भूमिका होती है। इसी विषय को केंद्र में रखते हुए और ज़्यादा गंभीर न होते हुए सिंगापुर के उन रास्तों का ज़िक्र होगा जिनके नाम या तो भारतीय हैं या अगर भारतीय नहीं हैं तो कुछ ख़ास कहानी है उस नाम के पीछे। हर रास्ता एक कहानी कहता है। 

सिंगापुर
सिंगापुर 
...

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें