हिंदी को तुरंत शिक्षा का माध्यम बनाइये। - बेरिस कल्यएव
काव्य
जब ह्रदय अहं की भावना का परित्याग करके विशुद्ध अनुभूति मात्र रह जाता है, तब वह मुक्त हृदय हो जाता है। हृदय की इस मुक्ति की साधना के लिए मनुष्य की वाणी जो शब्द विधान करती आई है उसे काव्य कहते हैं। कविता मनुष्य को स्वार्थ सम्बन्धों के संकुचित घेरे से ऊपर उठाती है और शेष सृष्टि से रागात्मक संबंध जोड़ने में सहायक होती है। काव्य की अनेक परिभाषाएं दी गई हैं। ये परिभाषाएं आधुनिक हिंदी काव्य के लिए भी सही सिद्ध होती हैं। काव्य सिद्ध चित्त को अलौकिक आनंदानुभूति कराता है तो हृदय के तार झंकृत हो उठते हैं। काव्य में सत्यं शिवं सुंदरम् की भावना भी निहित होती है। जिस काव्य में यह सब कुछ पाया जाता है वह उत्तम काव्य माना जाता है।

Articles Under this Category

धरती बोल उठी - रांगेय राघव

चला जो आजादी का यह
नहीं लौटेगा मुक्त प्रवाह,
बीच में कैसी हो चट्टान
मार्ग हम कर देंगे निर्बाध।

...

तक़दीर और तदबीर - महावीर प्रसाद द्विवेदी | Mahavir Prasad Dwivedi

तक़दीर 
यह तदबीर से बोली तक़दीर हँसकर--
नहीं कोई दुनिया में मेरे बराबर।
...

समकालीन - गोरख पाण्डेय

कहीं चीख उठी है अभी 
कहीं नाच शुरू हुआ है अभी
कहीं बच्चा हुआ है अभी
कहीं फौजें चल पड़ी हैं अभी
...

माँ | कविता - दिव्या माथुर

उसकी सस्ती धोती में लिपट
मैंने न जाने
कितने हसीन सपने देखे हैं
उसके खुरदरे हाथ मेरी शिकनें सँवार देते हैं
मेरे पड़ाव हैं
उसकी दमे से फूली साँसें
ठाँव हैं
कमज़ोर दो उसकी बाँहें उसकी झुर्रियों में छिपी हैं
मेरी खुशियाँ
और बिवाइयों में
मेरा भविष्य। 
...

वह मैं हूँ… - ओमप्रकाश वाल्मीकि | Om Prakash Valmiki

मुँह-अँधेरे बुहारी गई सड़क में
जो चमक है–
वह मैं हूँ !
...

बात मेरी नहीं मानी... | ग़ज़ल  - त्रिलोचन

बात मेरी नहीं मानी नहीं मानी तुम ने 
जी में जो बात बसी थी वही ठानी तुम ने

मेरा क्या, बात कही और लगा अपनी राह 
अपने आगे किसी की बात न जानी तुम ने
...

क्या कीजे - प्रदीप चौबे

गरीबों का बहुत कम हो गया है वेट क्या कीजे 
अमीरों का निकलता आ रहा है पेट क्या कीजे
...

गांव पर हाइकु  - डॉ रामनिवास मानव | Dr Ramniwas Manav

डॉ. 'मानव' हाइकु, दोहा, बालकाव्य तथा लघुकथा विधाओं के सुपरिचित राष्ट्रीय हस्ताक्षर हैं तथा विभिन्न विधाओं में लेखन करते हैं। गांव पर लिखे उनके कुछ हाइकु यहाँ दिए जा रहे हैं:
...

हंसी जो आज लब पर है | ग़ज़ल - विजय कुमार सिंघल

हंसी जो आज लब पर है, उसे दिल में छुपा रक्खो 
मुसीबत के दिनों के वास्ते कुछ तो बचा रक्खो 
...

दो चार गाम राह को... | ग़ज़ल - निदा फ़ाज़ली

दो चार गाम राह को हमवार देखना 
फिर हर क़दम पे इक नई दीवार देखना 
...

पूत-कपूत | हास्य-कविता - अल्हड़ बीकानेरी 

डैडी, मोरे अवगुन चित न धरो, 
मैं लाडलो कपूत तिहारो, मो पै गरब करो।
...

कुछ दोहे  - श्याम लाल शर्मा

रे मन दुर्जन को तजो, समझ नीच को कीच।
संग दोष टलता नहीं, रसे बसे मन बीच॥
...

बसा ले अपने मन में प्रीत | गीत - हफीज़ जालंधरी 

बसा ले अपने मन में प्रीत। 
मन-मन्दिर में प्रीत बसा ले, 
ओ मूरख ओ भोले भाले, 
दिल की दुनिया कर ले रोशन, 
अपने घर में जोत जगा ले, 
प्रीत है तेरी रीत पुरानी, 
भूल गया ओ भारतवाले! 
...

राम की जल समाधि - भारत भूषण

पश्चिम में ढलका सूर्य उठा वंशज सरयू की रेती से,
हारा-हारा, रीता-रीता, निःशब्द धरा, निःशब्द व्योम,
निःशब्द अधर पर रोम-रोम था टेर रहा सीता-सीता
...

चमकता रहूँ माँ - नरेन्द्र कुमार

चरणों की धूल, माथे पर लगाकर 
तेरी पूजा करूं मैं जिंदगी भर 
आंचल की छांव में आशीष पाकर
चमकता रहूं माँ जगमगाकर 
पालन पोषण का उपहार पाकर
समाऊं धरा में जग महकाकर 
एक फूल तेरे चरणों में सजाकर 
पूजा करूं माँ शीश झुकाकर 
चरणों की धूल माथे पर लगाकर
नमन करूं माँ शीश नवाकर
...

मैं खुद में हूँ पूरी  - सोनाली सिंह

जननी हूँ
जीवन भी मैं,
जज्बातों पर
मेरा जोर नहीं। 
सशक्त हूँ,
व साकार
भी हूँ मैं
नारी हूँ,
कमजोर नहीं। 
दरपन हूँ व
अक्स भी मैं,
झुका सके मुझे
इतना कोई सशक्त नहीं
स्वाभिमानी हूँ, व
आत्म निर्भर भी मैं।
टूट के बिखरूं अब
वो वक्त नहीं,
नहीं समझना
आधी-अधूरी
नहीं अधूरी मैं
खुद में हूँ पूरी। 
साथ चलना हो
तो हाथ बढ़ाना,
पीछे हटना
मुझे मंजूर नहीं। 
...

याद  - डॉ. अनुराग कुमार मिश्र
नदी के किनारे ढलती शाम के साये में
स्कूटर पर उनका कुछ सहम कर बैठना। 

कभी कानों से सटकर रुकने को कहना
कभी पीठ पर उंगलियों से कुछ लिखना। 

हवाओं के रुख पर वो जुल्फों का उड़ना
जूड़े में कसना औ फिर उनका खुलना। 

सब्जियों के खेतों पर मन का मचलना
कभी मुझे टोकना कभी खुद सम्हलना। 

बहुत याद आता है साथ उनका चलना
हाथ कन्धे पे रखकर चढ़ना - उतरना। 

डॉ. अनुराग कुमार मिश्र
ई-मेल : dranuragmishra3@gmail.com
...
डॉ हर्षा त्रिवेदी की तीन कविताएं - डॉ हर्षा त्रिवेदी

क्योंकि मैं ज़िंदा था 
...

कर-जुग - नज़ीर अकबराबादी

दुनिया अजब बाज़ार है, कुछ जिन्स याँकी साथ ले, 
नेकी का बदला नेक है, बद से बदी की बात ले। 
मेवा खिला, मेवा मिले, फल-फूल दे, फल-पात ले, 
आराम दे आराम ले, दुख-दर्द दे आफ़ात ले।
...

पथिक - मोहनलाल महतो वियोगी

पथिक हूँ,— बस, पथ है घर मेरा। 
बीत गए कितने युग चलते किया न अब तक डेरा। 
नित्य नया बनकर मिलता है, वही पुराना साथी, 
निश्चित सीमा के भीतर ही लगा रहा हूँ फेरा। 
हैं गतिमान सभी जड़-चेतन, थिर है कौन बता दे? 
क्षण, दिन, मास, वर्ष, ऋतु, यौवन, जीवन, विभा अँधेर 
दर्शन - पात्र एक ही जन है, क्षण क्षण रूप बदलता, 
इस नाटक में बस दो पट हैं, संध्या और सवेरा। 
"इसके बाद और भी कुछ है " यही बताकर आशा, 
लेने देती नहीं तनिक भी, मन को कहीं बसेर । 
ममते! देख दिवस ढलता है, घन घनघोर उठे हैं, 
बतला दूर यहाँ से क्या है अभी नगर वह तेरा? 
पथिक हूँ— बस, पथ है घर मेरा—
...

मनीष कुमार मिश्रा की दो ग़ज़लें  - मनीष कुमार मिश्रा

शरद की रातों में हरसिंगार झरता रहा
वो चुपचाप चांदनी पीकर महकता रहा।
...

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें