भारतीय साहित्य और संस्कृति को हिंदी की देन बड़ी महत्त्वपूर्ण है। - सम्पूर्णानन्द।

दो क्षणिकाएँ (काव्य)

Print this

Author: नवल बीकानेरी

पाँव के नीचे से 
निकल गई 
एक छोटी सी कीड़ी,
बड़ी-सी बात कहकर 
कि
मारने वाले से 
बचाने वाला बड़ा है। 

-नवल बीकानेरी

#

एक मुट्ठी में आज है 
एक मुट्ठी में कल 
कौन-सी मुट्ठी खोलूँ 
तू सोचकर बता दे। 

-नवल बीकानेरी 

Back

 
Post Comment
 
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें