Find Us On:

Hindi English
  • प्रेमचंद
  • 15 अगस्त - आज़ादी
  • 15 अगस्त - आज़ादी
  • रवीन्द्र बाबू
1 2 3 4
Loading

जुलाई-अगस्त 2016

जुलाई-अगस्त 2016

भारत-दर्शन का स्वतंत्रता-दिवस विशेषांक आपको भेंट।

भारत-दर्शन से जुड़ें :  फेसबुक - गूगल प्लस - ट्विटर


23 जुलाई - चन्द्रशेखर आज़ाद व पं० बालगंगाधर तिलक जयंती के अवसर पर


भारत-दर्शन पर चन्द्रशेखर आज़ाद पर विशेष सामग्री पढ़िए।


क्रांतिवीर चंद्रशेखर आज़ाद के जीवन पर आधारित वीडियो देखें।

भारत-दर्शन पर पं० बालगंगाधर तिलक पर विशेष सामग्री पढ़िए।

 

22 जुलाई को गूगल-डूडल ने मुकेश को दी श्रद्धांजलि

गूगल इंडिया ने डूडल के माध्यम से बॉलीवुड के दिवंगत पार्श्वगायक मुकेश को उनकी 93वीं जयंती पर याद किया।

गूगल ने अपने डूडल पर एक कार्टून के रूप में मुकेश को मुस्कराते चेहरे के साथ दिखाया है। इसमें मुकेश के हाथों में एक माइक्रोफोन भी नजर आ रहा है।

स्व. मुकेश चंद माथुर का जन्म 22 जुलाई, 1923 को दिल्ली में हुआ था ।

मुकेश अपने जमाने के प्रसिद्ध गायक अभिनेता कुंदनलाल सहगल के प्रशंसक थे और उन्हीं की तरह गायक अभिनेता बनने का ख्वाब देखा करते थे ।

मुकेश ने अपने तीन दशक गायन में दो सौ से भी अधिक फिल्मों के लिये गीत गाये ।
मुकेश को उनके गाये गीतों के लिये चार बार फिल्म फेयर के सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायक पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

27 अगस्त 1976 को दिल का दौरा पड़ने से मुकेश का निधन हो गया ।

#

रक्षा-बंधन से संबंधित सामग्री यहाँ पढ़ें।

स्वतंत्रता-दिवस पर विशेष सामग्री प्रकाशित की गई है। पढ़िए गुमनाम शहीदों पर प्रकाश डालती पांडेय बेचैन शर्मा 'उग्र' की कहानी 'उसकी माँ'।

इस अंक में स्वतंत्रता-दिवस से संबंधित रचनाओं को प्रमुखता से प्रकाशित किया गया है। भारत-दर्शन का सम्पूर्ण स्वतंत्रता-दिवस अंक पढ़ें या प्रमुख रचनाएं पढ़ें जिनमें सम्मिलित हैं कविताएँ, कहानियाँ व बाल-साहित्य। शहीदों से संबंधित सामग्री भी देखें।

आशा है पाठकों का स्नेह मिलता रहेगा। आप भी भारत-दर्शन में प्रकाशनार्थ अपनी रचनाएं भेजें। इस अंक से हम हिंदी लेखकों व कवियों के चित्रों की श्रृँखला भी प्रकाशित कर रहे हैं यदि आप के पास दुर्लभ चित्र उपलब्ध हों तो अवश्य प्रकाशनार्थ भेजें। इस अनूठे प्रयास में अपना सहयोग दें।

 

Our News

प्रेमचन्द और हिंदी
प्रेमचन्द उर्दू का संस्कार लेकर हिन्दी में आए थे और हिन्दी के महान लेखक बने। हिन्दी को अपना खास मुहावरा और खुलापन दिया।....
अब हिंदी में एडसेंस उपलब्ध
गूगल ने अपने एडसेंस का द्वार हिंदी भाषी वेबसाइट के लिए खोल दिया है। गूगल एडसेंस कमाई करने का सरल साधन है। कई वर्षों....

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश